AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

रविवार, 3 मार्च 2019

डिवाइडर निर्माण में की जा रही अनियमितता की ईओ ने की जाँच

फतेहपुर, शमशाद खान । सड़कों का सुंदरीकरण कराने के साथ ही लोगो को जाम की समस्या से मुक्ति दिलाए जाने के लिए नगर पालिका परिषद द्वारा बनाए जा रहे डिवाइडर में ठेकेदार द्वारा मनमानी करने के साथ ही मानक विहीन निर्माण कर सरकारी धन में बड़ा खेल किया जा रहा है। डिवाइडर निर्माण में प्रयुक्त होने वाले सीमेंट मौरंग एवं गिट्टी के मसाले को बनाने में मानक में जमकर मनमानी की जा रही है। नगर पालिका परिषद द्वारा बनने वाले डिवाइडर निर्माण में ठेकेदारों द्वारा किया जा रहे खेल की सूचना शहर वासियों द्वारा नगर पालिका ईओ को दी गई। जिस पर अपर उप जिलाधिकारी/अधिशाषी अधिकारी प्रमोद कुमार झा द्वारा आकस्मिक निरीक्षण किया गया। अधिकारी के पहुंचते ही ठेकेदार मौके पर तो नहीं मिले। जिस पर अधिशाषी अधिकारी ने मौजूद सुपरवाइजर से मैटेरियल के बाबत पूछताछ कर जानकारी हासिल करनी चाही लेकिन तकनीकी ज्ञान न होने से अनजान ठेकेदार के मेठ एवं मिस्त्री ने रटा रटाया जवाब देकर अधिशाषी अधिकारी को ही भ्रमित करने का प्रयास किया। जिस पर अपर उप जिलाधिकारी/अधिशाषी अधिकारी प्रमोद कुमार झा ने डिवाइडर निर्माण में प्रयुक्त हो रहे मसाले का सैंपल एक गिलास में एकत्र कर उसे चेक कराने की बात करते हुए अपने साथ ले गए। जानकारों की माने तो डिवाइडर निर्माण में नगर पालिका परिषद के ठेकेदार द्वारा बड़ा खेल किया जा रहा है। जिसमें डिवाइडर की दीवार में लगने वाली सरिया को बचाने के साथ ही निर्माण से पहले की जाने वाली सीमेंटेड पीसीसी के स्थान पर ईंट की गिट्टी और बालू का प्रयोग किया जा रहा है। जबकि मानक के अनुसार गिट्टी के साथ सीमेंट युक्त मसाले का प्रयोग किया जाना चाहिये। सरकारी नियमों को धता बताते एव अधिकारियो की नजरों में आने से पहले ठेकेदार द्वारा बड़ी संख्या में लेबरों को लगाकर मानक विहीन काम कराया जा रहा है। वहीं पूर्व में बनवाई गई डिवाइडर वाल में तराई तक नहीं की जाती है। जिससे कि उसकी मजबूती में भी फर्क पड़ेगा। ठेकेदारों द्वारा सीमेंट बचाने के इस खेल में शामिल उनके कर्मचारी सीमेंट चोरी के अपने खेल को अफसरो की निगाहों से बचाने के लिये निर्माण होने के बाद डिवाइडर की वॉल पर ब्रश से सीमेंट का लेप लगा कर अधिकारियों को भ्रमित करने का काम कर रहे हैं। यदि निष्पक्षता से जिला प्रशासन टीम बनाकर डिवाइजर निर्माण की जांच करा ले तो डिवाइडर के निर्माण में ठेकेदार द्वारा किये जा रहे इस खेल को बेनकाब किया जा सकता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट