AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

गुरुवार, 7 मार्च 2019

भूमि पर अवैध कब्जे के विरोध में पीड़ित ने शुरू किया आमरण अनशन

फतेहपुर, शमशाद खान । हुसैनगंज थाना क्षेत्र के चितीसापुर गांव में दबंगों द्वारा एक गरीब व्यक्ति की भूमि पर अवैध कब्जा किये जाने के चलते पीड़ित ने गुरूवार से कलेक्ट्रेट गेट पर आमरण अनशन शुरू कर दिया। पीड़ित का कहना रहा कि पहले भी वह कई बार आमरण अनशन कर चुका है। लेकिन आज तक दबंगों के खिलाफ कार्रवाई कर उसकी भूमि से अवैध कब्जा नहीं हटवाया गया। उसने डीएम से मांग किया कि तत्काल उसकी भूमि से अवैध कब्जा हटवाया जाये। 
आमरण अनशन पर बैठे पीड़ित महेश पुत्र बैजनाथ ने बताया कि दिलशाद, समसाद पुत्रगण निसार अहमद, लालचन्द्र, सुरेश, राम पुत्रगण स्व0 मेवालाल चैरसिया, सरवन पुत्र रजऊ, रईस पुत्र खालिक, चन्द्र कुमार शुक्ला, राम प्रसाद शुक्ला निवासी ग्राम कठेरवा के हैं। इन लोगों का बैनामा 1997 में गाटा नं0 771 का 3/4 भाग का हुआ था। इस जमीन में गुण्डई के बल पर कब्जा कर लिया है। जिस नम्बर का कोई बैनामा नहीं है। उस जमीन में कब्जा कर लिया है। मना करने पर जान से मारने की धमकी देते हैं। कहा कि वह थाने भी गया जहां उसे भगा दिया गया। 1999 में यह लोग ईंट मौरंग डलवा दिया। जब मना किया तो कहने लगे कि जिस नम्बर का बैनामा है उसमें भी कब्जा करेंगेठ इसमें घर बनवायेंगे और उसे जान से मारने की धमकी देने लगे। मजबूर होकर उसने अदालत की शरण ली और सिविल जज जू0डि0 से स्टे आर्डर मिला। उसमें आदेश दिया गया कि जोतने बोने में कोई दखल न हो। इसके बाद उसने धान की फसल लगवायी। जब धान तैयार किया तो यह लोग गुण्डई के बल पर मारपीटकर पूरा धान भर कर ले गये। जब वह थाने गया तो गाली देकर व धमकी देकर भगा दिया गया। इसके बाद जोतने बोने भी नहीं दिया। तब से खेत में बबूल के पेड़ खड़े हो गये हैं। अगर काटने जाता है तो यह लोग जान से मारने की धमकी देते हैं। उसने जिलाधिकारी से मांग किया कि उसकी भूमिधरी जमीन से तत्काल अवैध कब्जा हटवाया जाये। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट