AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

मंगलवार, 2 अप्रैल 2019

एक लाख रूपये की चोरी का पुलिस दर्ज नहीं कर रही मुकदमा

फतेहपुर, शमशाद खान । बीते तेरह अप्रैल को पंजाब नेशनल बैंक से एक लाख रूपया निकालकर स्कूटी की डिग्गी में रखकर पीलू तले चैराहे पहुंचे एक सेवानिवृत्त कर्मचारी का पैसा चोरों द्वारा पार कर दिये जाने के मामले में आज तक पुलिस द्वारा मुकदमा नहीं लिखा गया। पीड़ित ने कहा कि पुलिस की इस कार्यशैली से अपराधों में दिनों दिन बढ़ोत्तरी होगी। उन्होने कहा कि शीघ्र ही चोरी का मुकदमा दर्ज कराकर चोरों की गिरफ्तारी सुनिश्चित करायी जाये। भूतपूर्व सैनिक संगठन के जिलाध्यक्ष ने कहा कि यदि सात दिनों के भीतर कार्रवाई न की गयी तो पूर्व सैनिक आन्दोलन के लिए विवश हो जायेंगे। 
मंगलवार को भूतपूर्व सैनिक उत्थान एवं लोक कल्याण समिति के अध्यक्ष विद्या भूषण तिवारी के आवास में पत्रकारों से बातचीत करते हुए सदर कोतवाली क्षेत्र के महाजरी मुहल्ला निवासी सेवानिवृत्त कर्मचारी सुभाष चन्द्र श्रीवास्तव ने कहा कि तेरह मार्च को रामा श्यामा काम्प्लेक्स स्थित पंजाब नेशनल बैंक से एक लाख रूपया बचत खाते से निकालकर एक काले छोटे बैग में लेकर अपनी स्कूटी एक्टिवा की डिग्गी में रख दिया था। पीलू तले चैराहे आने पर वह पांच मिनट गाड़ी खड़ी करके जरूरी काम से गाड़ी से अलग हट गये थे। तत्पश्चात वह अपनी गाड़ी लेकर घर चले गये और जब डिग्गी खोलकर देखा तो पैसे मय बैग के गायब थे। घटना का समय लगभग दोपहर ढाई बजे था। इसके बाद उन्होने घटना की सूचना लिखित प्रार्थना पत्र के माध्यम से कोतवाली में दी। मोबाइल के जरिये पूरी घटना प्रभारी कोतवाली को बतायी। तब उनके आदेश पर प्रार्थना पत्र कोतवाली के ही कांस्टेबिल विनोद को मुकदमा पंजीकृत करने के लिए दिया। 13 से 18 मार्च तक वह कोतवाली दौड़ते रहे। लेकिन मुकदमा दर्ज नहीं किया गया। 18 तारीख को कोतवाल साहब ने कहा कि वह मुराइनटोला चैकी इंचार्ज से जांच करवाकर प्राथमिकी दर्ज करा देंगे। इसके बाद वह कई बार मुराइनटोला चैकी इंचार्ज से मिला। वह उलटा उसे ही दोषी कहते रहे। इस तरह से उसे लगातार टरकाया जा रहा है। पत्रकारों से बातचीत करते हुए समिति के अध्यक्ष विद्या भूषण तिवारी ने कहा कि पुलिस द्वारा उल्टा पीड़ित को ही दोषी बताया जा रहा है। ऐसी स्थिति में अपराधियों का मनोबल बढ़ेगा। बताया कि बैंक व अन्य सीसीटीवी फुटेज से अपराधी चिन्हित हो चुके हैं। पहचान कर पकड़वाना पुलिस का दायित्व है। पुलिस विभाग की गलती से काफी साक्ष्य नष्ट भी हो गये हैं। उन्होने मांग किया कि शीघ्र ही मुकदमा दर्ज कर मुल्जिमानों की गिरफ्तारी सुनिश्चित करायी जाये। यदि सात दिनों के भीतर कार्रवाई न हुयी तो संगठन आन्दोलन के लिए विवश हो जायेगा। इस मौके पर महिला जिलाध्यक्ष जागृति तिवारी भी मौजूद रहीं। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट