AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

सोमवार, 6 मई 2019

सकुशल मतदान समाप्ति पर जिला एवं पुलिस प्रशासन ने ली राहत की सांस

फतेहपुर, शमशाद खान । लोकसभा चुनाव में पांचवे चरण के तहत सोमवार को जिले के सभी मतदान केन्द्रों में शांतिपूर्ण माहौल के बीच लोकतंत्र का महापर्व सम्पन्न हो गया। मतदाताओं ने अपने-अपने मताधिकार का प्रयोग कर दस प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला ईवीएम मशीनों में कैद कर दिया। शहर क्षेत्र के साथ-साथ तहसील क्षेत्रों के अन्य बूथों में ईवीएम की खराबी से कुछ समय के लिए मतदान प्रभावित हो गया। लेकिन जिला प्रशासन से तत्परता दिखाते हुए दूसरी ईवीएम मशीनों को बूथों तक पहुंचाने का काम किया। जिसके बाद मतदान सम्पन्न कराया गया। सूर्य की तपन ने मतदाताओं के कदम रोकने का काम तो किया लेकिन शाम को एक बार फिर मतदाताओं की भीड़ मतदान केन्द्रों पर दिखाई दी। सकुशल मतदान समाप्ति पर जिला एवं पुलिस प्रशासन ने राहत की सांस ली। 
फतेहपुर संसदीय सीट पर भाजपा प्रत्याशी साध्वी निरंजन ज्योति, सपा-बसपा गठबंधन प्रत्याशी सुखदेव प्रसाद वर्मा, कांग्रेस प्रत्याशी राकेश सचान, प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया से महेश चन्द्र साहू समेत दस दलीय व निर्दलीय प्रत्याशी मैदान में थे। सोमवार को सुबह लगभग साढ़े छह बजे प्रत्याशियों के अभिकर्ताओं के समक्ष माकपोल कराकर निर्धारित समय सात बजे मतदान प्रक्रिया शुरू करायी गयी। सुबह धूप कम होने के कारण सभी बूथों पर मतदाताओं की लम्बी-लम्बी कतारे लगी रहीं। शहर क्षेत्र के साथ-साथ ग्रामीणांचलांे के बूथों पर पहले मतदान फिर जलपान के दिये गये संदेश पर अमल करते हुए बड़ी संख्या में मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करते दिखे। इसके बाद ही वह अपने खेती-किसानी के कार्यों में जुट गये। सुबह के समय मतदान प्रतिशत बड़ी तेजी से बढ़ा। लेकिन जैसे-जैसे सूर्य की तपन बढ़ी वैसे-वैसे बूथों पर सन्नाटा दिखने लगा। दोपहर के बारह बजने के बाद सभी बूथों पर सन्नाटा छा गया। इक्का-दुक्का मतदाता ही अपने मताधिकार का प्रयोग करते रहे। उधर शहर क्षेत्र में बिजली व्यवस्था गड़बड़ाने के चलते मतदाताओं के साथ-साथ बूथों पर मौजूद मतदान कर्मियों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। गर्मी के कारण सभी बेहाल रहे। लेकिन विद्युत विभाग पर इसका कोई असर नहीं दिखा। मतदाताओं ने अपने दस प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला देर शाम छह बजे तक ईवीएम मशीनों में कैद कर दिया। इस दौरान सभी प्रत्याशियों ने अपने-अपने मताधिकार का प्रयोग करते हुए अपनी सुनिश्चित जीत का दावा भी किया और उनके द्वारा आंकड़े भी पेश किये गये कि वह हर हाल में चुनाव जीत रहे हैं। तमाम तो ऐसे प्रत्याशी रहे जिन्होने अपने बस्ते भी नहीं लगाये। लेकिन फिर भी उन्होने आंकड़े पेश करते हुए अपनी जीत सुनिश्चित बतायी। हालांकि जनपद की सभी छह विधानसभा क्षेत्रों में होने वाले मतदान के लिए जिला व पुलिस प्रशासन ने मतदान कर्मियों को रविवार को ही पूरी तरह बूथों के लिए रवाना कर दिया था और मतदान कर्मियों ने बूथों पर पहुंचकर मुस्तैदी के साथ अपनी ड्यूटी का निर्वहन करना शुरू कर दिया था। उन्होने इसी के साथ ही संदेश भी दे दिया कि यह बूथ पर मुस्तैद हो गये हैं और किसी भी मतदाता को मतदान में किसी प्रकार की परेशानी का सामना नहीं करना पड़ा। कई मतदान केन्द्रों में ईवीएम की गड़बड़ी की शिकायतें तमाम क्षेत्रों में देखने व सुनने को मिली। हालांकि जिला निर्वाचन अधिकारी संजीव सिंह द्वारा पहले से ही ईवीएम की दस प्रतिशत मशीनों की अतिरिक्त व्यवस्था कर दी गयी थी। लेकिन जब तक ईवीएम मौके पर पहंुची तब तक बूथों पर मतदान की प्रक्रिया प्रभावित रही। वोट डालकर लौटने वाले मतदाताओं की चुप्पी बरकरार रही। मतदाताओं ने किसी को यह बताने का प्रयास नहीं किया कि उसने किस प्रत्याशी को अपना वोट दिया है। शांतिपूर्ण माहौल में लोकतंत्र का महापर्व सम्पन्न होने के बाद जिला एवं पुलिस प्रशासन ने राहत की सांस ली। क्योंकि यह एक बड़ी चुनौती का कार्य था और मतदान की समाप्ति के बाद ईवीएम मशीनों को मंडी परिसर में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच कैद कर दिया गया। अब 23 मई को मतों की गिनती का कार्य होगा। जीत का सेहरा किसके सिर पर होगा आगामी 23 मई की शाम तक परिणाम सबके सामने आ जायेगा। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट