AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

शनिवार, 18 मई 2019

भीगी आंखो से दी गयी शहीद को विदाई

कानपुर नगर,  हरिओम गुप्ता - पुलवामा में आतंकियों के साथ हुई मुठभेड में शहीद हुए  17 राजपूत रेजिमेंट के जवान रोहित यादव का पार्थिव शरीर शनिवार को डेरापुर पहुंचा। इससे पहले शहीद के दर्शनों के लिए हजारो लोग शहीद के गांव पहुंच चके थे। जैसे ही शहीद का पार्थिव शरीर गांव पहुंचा तो तिरंगे में लिपटे देश के लाल को देखने के लिए सभी लोग उमड पडे। लोगों की आखो से आंसू छलक उठे। युवाओं ने डेरापुर और मुंगीसापुर में शहीद के सम्मान में तिरंगा रैली निकाली।
             देश का सपूत कानपुर देहात के डेरापुर कस्बे के रहने वाले सेवानिवृत्त सेना के जवान गंगादीन यादव के पुत्र रोहित यादव की 44 आतंकवादी निरोधक दस्ता आरआर बटालियन 17 राजपूत रेजीमंेट में तैनाती थी। बताते चले कि बीते गुरूवार को पुलवामा में आतंकियो ंके साथ हुई मुठभेड में राहित यादव शहीद हो गये थे और सूचना मिलने के बाद पूरे कस्बे में शोक की लहर दौड गयी थी। शुक्रवार की शाम शहीद का पार्थिव शरीर घर आने की जानकारी मिली थी। शनिवार की दोपहर लगभग डेढ बजे सेना के अफसर पार्थिव शरीर लेकर डेरापुर आये तो परिजनों की आखों में आंसुओं का सैलाब उमड पडा। वहीं हजारो की संख्या में पहुंचे लोगो की आंखे भी गीली हो गयी। शहीद के अंतिम दर्शनों के लिए लो सडक, छतो और घरो के बाहर खडे रहे। अम्बेडकर नगर के बाहर भूमि पर शहीद को अंतिम विदाई दी गयी। शहीद रोहित यादव का विवाह 25 अप्रैल 2016 को वैष्णवी के साथ हुआ था। राहित को बर्फीली वादियों से बेहद लगाव था और 2016 में उन्हे बर्फीली वादियों में जाने का मौका मिला। वह तैनाती के दौरान शोपियां, जम्मू कश्मीर पहुंच गये। बताया जाता है कि रोहित बर्फीली वादियों में फोटो खींच कर अपने दोस्तों को अक्सर भेजते थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट