Recent comments

Breaking News

कब्रिस्तान की जमीन पर अवैध कब्जे को लेकर ग्रामीणों ने किया प्रदर्शन

फतेहपुर, शमशाद खान । हस्वा ग्राम में स्थित कब्रिस्तान की भूमि पर हल्का लेखपाल द्वारा अवैध रूप से अपात्रों को कब्जा कराये जाने से नाराज ग्रामीणों ने कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन कर जिलाधिकारी को एक ज्ञापन सौंपा। ग्रामीणों ने लेखपाल पर कब्जा करवाने का आरोप मढ़ते हुए मामले की जांच कराकर कार्रवाई किये जाने की मांग की है। 
हस्वा गांव के ग्रामीण सोमवार को कलेक्ट्रेट पहुंचे। जहां कब्रिस्तान की जमीन पर हो रहे अवैध कब्जे को लेकर प्रदर्शन किया। तत्पश्चात जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपकर बताया कि ग्राम में दौरान चकबंदी आबादी की जमीन छोड़ी गयी है। जिस पर मकान हेतु पट्टा न करके हल्का लेखपाल प्रधान से सांठगांठ करके नवीन परती बंजर व कब्रिस्तानों पर भारी रकम लेकर अवैध रूप से अपात्र लोगों को कब्जा करा रहा है। बताया कि जबकि कब्रिस्तान कागज में दर्ज है और उसमें पुरानी व नई कब्रे बनी हैं। इसके अलावा हल्का लेखपाल बरर्खास्त लेखपाल छोटेलाल मौर्य के सहारे अपात्र लोगों को बगैर किसी सक्षम न्यायालय के आदेश के ग्राम समाज नवीन परती, बंजर एवं कब्रिस्तान पर अवैध रूप से जेसीबी चला रहा है। जिससे गांव में साम्प्रदायिकता का माहौल पैदा हो गया है। किसी भी क्षण ग्राम में फसाद होने का अंदेशा बना हुआ है। हल्का लेखपाल की सांठगांठ भूमाफियाओं व प्रधान से है। उन्हीं के इशारे पर लेखपाल अवैध कार्य निरंतर कर रहा है। मना करने पर कहता है कि कोई अधिकारी उसका कुछ नहीं कर सकता। बताया कि वह सभी शांतप्रिय नागरिक हैं और गांव में मिल-जुलकर रहते हैं। लेखपाल द्वारा कब्रिस्तान पर जेसीबी चलाये जाने एवं अवैध कब्जा कराये जाने से वह और उनका परिवार बेहद आहत है। ग्रामीणों ने जिलाधिकारी से मांग किया कि इस मामले की जांच कराकर जहां कब्रिस्तान की जमीन पर हो रहे अवैध कब्जे को रूकवाया जाये वहीं हल्का लेखपाल पर कानूनी कार्रवाई की जाये। इस मौके पर कैलाश लोधी, मो0 तारिक, मो0 मारूफ, मो0 सलीफ कुरैशी, महिपाल पाल, सलीम, मो0 अहमद, राजू, शिव प्रसाद पाल, रजनीश पाल, अब्दुल हई, मो0 शकील, रेहान, कुलदीप, राकेश पाल, पूसू, राज कुमार, अजमेरी, ओम प्रकाश, राजपाल, पप्पू, घनश्याम, लाला, अफजल, तुलसी फौजी, राधेश्याम पाल, राजाराम, राजेन्द्र प्रसाद, राम सजीवन, प्रेम, ज्ञान सिंह आदि मौजूद रहे। 

No comments

फाइलेरिया से बचाव

इलाज बीमारी की प्रारंभिक अवस्था में ही शुरू हो जाना चाहिए। किसी ऐसे क्षेत्र में जहां फाइलेरिया फैला हुआ है वहां खुद को मच्छर के काटने से ...