Recent comments

Breaking News

ई-रिक्शा की बढती संख्या से हर मार्गो में लगता पूरे दिन जाम

फतेहपुर, शमशाद खान । शहर की यातायात व्यवस्था को दुरूस्त करने के लिये जिला प्रशासन द्वारा भले ही सख्त कदम उठाये जा रहे हो। इसके बावजूद भी जाम की समस्या लोगो के लिये नासूर साबित हो रही है। इन दिनों ट्राफिक व्यवस्था पूरे तरीके से धड़ाम हो गयी है। ट्राफिक के जवान पिकेट प्वाइट पर नहीं दिखते इतना ही नहीं एकाएक बढ़ी ई-रिक्शा की आमद से जहां नाबालिंग चालकों द्वारा वाहन मनमानी ढंग से चलाया जाता है। वहीं बेतरतीबी से खडे ई-रिक्शा से प्रायः शहरवासियों को जाम के झाम से जुझना पड़ता है। जिसके चलते दिनोदिन लोगों का रूझान इसकी तरफ बढ़ता जा रहा हैं यही नहीं आॅटो एवं ई-रिक्शा संचालकों से पुलिस की मिलीभगत से कई स्थानों पर की जा रही अवैध वसूली भी पिछले काफी समय से चर्चा का विषय बनी हुयी है। बढती ई-रिक्शा आमद व मनमाने ढंग से नाबालिग चालकों द्वारा संचालित ई-रिक्शा से शहरवासियों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। ई-रिक्शा चालकों द्वारा जहां अपने वाहनों को बैतरतीबी से खड़ा किया जाना आम बात हो गयी है। वही सवारियां देखते ही इन चालकों द्वारा वाहन जहां के तहां खड़े करने के बाद पीछे चल रहे वाहन को यह तो अचानक बे्रक लगानी पड़ती है। यह फिर वह दुर्घटना का भी शिकार हो जाता है। इतना ही नहीं रिक्शा चालकों द्वारा गली कूचों में भी रिक्शे ले जाने से गलियों में भी जाम की स्थिति उत्पत्र हो जाती है। इन ई-रिक्शाओं को बेरोक टोक नाबालिग चालक भी चलाते हुए देखे जा सकते है। इस ओर सम्बन्धित विभाग द्वारा ठोस कदम न उठाये जाने के चलते रिक्शा संचालक अपनी मनमानी करने से बाज नही आते शहर क्षेत्र में यातायात व्यवस्था को चुस्त एवं दुरूस्त बनाये जाने की जिम्मेदारी ट्राफिक जवानों को हैं इसके लिये बकायदे आधा दर्जन से अधिक पिकेट प्वाइट बनाये गये हैं लेकिन इन पिकेट प्वाइंटो में ट्राफिक जवान किसी वीआईपी के आने पर ही दिखाई पड़ते है। हालात ऐसे बनते जा रहे है। कि शहर में जगह-जगह को स्थितियां लगातार बनती जा रही है। 

No comments

फाइलेरिया से बचाव

इलाज बीमारी की प्रारंभिक अवस्था में ही शुरू हो जाना चाहिए। किसी ऐसे क्षेत्र में जहां फाइलेरिया फैला हुआ है वहां खुद को मच्छर के काटने से ...