Recent comments

Breaking News

प्रधान प्रतिनिधि के ऊपर फर्जी मुकदमा न लगाये जाने की उठी मांग

फतेहपुर, शमशाद खान । तीन दिन पूर्व असोथर ग्राम सभा में हुयी मारपीट में बीच-बचाव के दौरान ग्राम प्रधान प्रतिनिधि की छीनी गयी सोने की चैन व सरकारी कागजात फाड़े जाने के विरोध में प्रधान प्रतिनिधि द्वारा लिखाये गये मुकदमें से असंतुष्ट होकर विपक्षियों द्वारा प्रधान प्रतिनिधि के ऊपर हरिजन एक्ट का मुकदमा लिखाये जाने के किये जा रहे प्रयासों की जानकारी मिलने पर ग्राम प्रधान संगठन के पदाधिकारियों ने जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक को शिकायती पत्र सौंपकर फर्जी मुकदमा न लगाये जाने की मांग उठायी है। 
शनिवार को ग्राम प्रधान संगठन के जिलाध्यक्ष नदीम उद्दीन पप्पू की अगुवई में पदाधिकारी कलेक्ट्रेट पहुंचे। जहां जिलाधिकारी को एक शिकायती पत्र सौंपकर बताया कि असोथर ग्राम सभा में 31 जनवरी को शाम सवा सात बजे गांव के अनुज प्रताप सिंह, अंकित सिंह, दीपेश सिंह भदौरिया, शिवबदन सिंह, शिव प्रताप सिंह व अन्नी सिंह आदि प्रधान के दरवाजे पर आ गये और गांव के ही महावीर रैदास पुत्र राम आसरे रैदास को गाली-गलौज व जाति सूचक शब्दों का प्रयोग करते हुए मारने-पीटने लगे। शोर शराबा सुनकर प्रधान प्रतिनिधि राम किंकर अवस्थी व अन्य तमाम लोग मौके पर इकट्ठा हो गये और बीच-बचाव करने लगे। इसी दौरान अनुज प्रताप सिंह ने प्रधान प्रतिनिधि की चैन छीन ली। कार्यालय के सरकारी कागजात उठा ले गये और इधर-उधर फेंक दिये। जिसकी रिपोर्ट थाना असोथर में दर्ज करा दी गयी। जिससे असंतुष्ट होकर विपक्षीगण भी प्रधान प्रतिनिधि के ऊपर हरिजन एक्ट व अन्य धाराओं का मुकदमा पंजीकृत कराना चाहते हैं। प्रधान प्रतिनिधि व उसका परिवार उपरोक्त लोगों के आतंक से बहुत ही भयभीत है। प्रधान प्रतिनिधि के ऊपर किसी भी समय कोई अप्रिय घटना घट सकती है। ऐसी स्थिति में बिना जांच किये प्रधान प्रतिनिधि के ऊपर कोई भी झूठे मुकदमे में न फंसाया जाये। यह शिकायती पत्र पुलिस अधीक्षक को भी देकर प्रधानों ने न्याय किये जाने की मांग की है। 
उधर ग्राम पंचायत तारापुर भिटौरा की प्रधान राम देवी ने भी जिलाधिकारी को शिकायती पत्र देकर बताया कि ग्राम पंचायत में पूर्व प्रधान सुनील बाल्मीकि एक दबंग व्यक्ति है। जो कुछ लोगों को उकसा कर सरकारी कार्यों में व्यवधान उत्पन्न कर प्रधान के खिलाफ झूठी व षड़यंत्रकारी बाते बनाकर आईजीआरएस के तहत प्रार्थना पत्र देता रहता है। इतना ही नहीं विकास कार्यों की सामग्री भी चोरी करवाता है। जिससे कामकाज बाधित होता है। सरकारी कर्मचारियों के साथ गाली-गलौज भी करता है। मांग किया कि सुनील कुमार के विरूद्ध कानूनी कार्रवाई की जाये। इस मौके पर प्रधान प्रतिनिधि राम किंकर अवस्थी, स्वामी सरन पाल, अखिलेश दुबे, राजेश सिंह, राम सहाय कुमार, सुनील गुपता, सुधाकर तिवारी आदि प्रधान मौजूद रहे। 

No comments

फाइलेरिया से बचाव

इलाज बीमारी की प्रारंभिक अवस्था में ही शुरू हो जाना चाहिए। किसी ऐसे क्षेत्र में जहां फाइलेरिया फैला हुआ है वहां खुद को मच्छर के काटने से ...