Recent comments

Breaking News

पेंटिंग से नहीं बुझेगी प्यास, जनता को है पानी की आस

वाराणसी, विक्की मध्यानी पानी है तो जिंन्दगानी है,यानी पानी के बिना जीवन की कल्पना भी नही की जा सकती,मगर अत्यधिक दोहन से पूरे बनारस में पेयजल संकट बेहद गहरा गया है। इसी समस्या के समाधान के लिए सरकार ने शहर के कई इलाकों में हजारों लीटर पानी स्टोरेज की क्षमता वाली पानी टँकीयो को बनवाया है,मगर हाल यह है कि इन टँकीयो की सुंदरता बढ़ाने के लिए इसपर रंगरोगन के साथ ही खूबसूरत पेटिंग की गई है,मगर टँकी के अंदर जल शून्य है।  
अगर हम बात करें वरूणा पार इलाके की तो यहां पानी की किल्लत् इस कदर है की लोग घड़े भर पीने के पानी के लिए तरस जा रहे हैं।
गौर करने वाली बात है कि वर्ष 2009 से 2015 तक कई नयी पेयजल टंकीया बनी पर सुचारु रुप से अभी भी जलापूर्ति नही की जा रही है।
सरकारें बदलती रहीं मगर पानी टंकीया शो पीस बनकर रह गयीं कई नयी बनी टँकीया अभी भी पूर्ण रूप से कार्य नहीं कर रही हैं। स्थानीय वासियों को अपनी प्यास बुझाने के लिये सबमर्सिबल पम्प से लेकर हैण्डपम्पो का सहारा लेना पड़ रहा है,वह भी भूजलस्तर भाग जाने के कारण पानी नही दे रहे हैं। 

अगर वर्तमान में बनी टँकीयो की इस्थिती देखें तो शिवपुर इस्थित सेंट्रल जेल रोड पर लगभग 18000 हज़ार लीटर पेयजल टंकी बने बीते आठ वर्ष पूर्ण हो गये।लेकिन जलापूर्ति अभी भी नही की जा रही है।
इसी क्रम में पन्ना लाल पार्क कचहरी बीते 5 वर्ष पहले यहां भी लगभग 15000 लीटर की पानी टंकी बनकर तैयार है।लेकिन जलापूर्ति अभी भी नहीं की जा रही है। 
पांडेपुर पिसनहरिया में बने टँकी का यही हाल है यहां भी 19000 हजार लीटर क्षमता का पेयजल की टंकी बन के तैयार है लेकिन जलापूर्ति सुचारू रूप से नहीं की जा रही है।
जब संबंधित अधिकारियों से इस बारे में चर्चा की गई तो उनके अनुसार क्षेत्र में पाइप लाइन लीकेज होने के कारण पूर्ण रूप से सप्लाई नहीं दी जा रही है।
 इसी तरह शिवपुर स्थित नटिनिया दाई क्षेत्र में जल संकट को देखते हुए एक पानी टंकी रहने के अलावा 4 वर्ष पूर्ण 21000 लीटर की एक अन्य टंकी बनाई गई। उससे भी जलापूर्ति वर्तमान समय में नहीं की जा रही है। कारण पूछने पर क्षेत्रीय संबंधित अधिकारियों द्वारा यह जानकारी मिली की यह टंकी लीकेज है इसलिए इसमें न तो पानी भरा जा रहा है।और ना ही इससे सप्लाई की जा रही है। क्षेत्रीय जल निगम जेई नीलम यादव से जानकारी लेने पर बताया गया कि जल्द ही सभी टंकियों व पाइप लाइनों को दुरुस्त करते हैं।पेयजल जलापूर्ति सुचारू रूप से पूर्ण कर दी जाएंगी। स्थानीय निवासी बं
रवि घावरी व किशन केसरी का कहना है कि सरकार ने टंकीया तो बनवा दी है। मगर इतने दिन बीत जाने के बाद भी इनसे पानी की सप्लाई नहीं हो रही है टंकियों पर पेंटिंग से प्यास नहीं बुझेगी।
सवाल यह उठता है कि करोड़ों की लागत से बनी टँकीया वर्तमान में शोपीस बनकर रह गयी है,उन्हें बाहरी तौर पर सजा दिया गया है,पेंटिंग कर दी गयी है। मगर जिसलिए इसे बनाया गया वह कार्य हो ही नही रहा है यानी जलापूर्ति शून्य है।

No comments

धूम धाम से मनाया बाल कृष्ण ठाकुर जी का जन्मोत्सव

चंदौली, पड़ाव मोतीलाल गुप्ता -   क्षेत्र के विभिन्न मंदिरों थानों सहित क्षेत्रवासियों के घर धूमधाम से मनाया बाल कृष्ण ठाकुर जी के जन्मोत्स...