Recent comments

Latest News

गणेश प्रतिमाओं को अंतिम रूप देने में जुटे मूर्तिकार

महंगाई की मार से परेशान हैं मूर्तिकार 

बांदा, कृपाशंकर दुबे । कोलकाता से आए मूर्तिकार अबकी बार गणेश चतुर्थी और नवरात्र के लिए गणेश और दुर्गा प्रतिमाएं बनाने का काम कर रहे हैं। अपने हुनर का बेहतर प्रदर्शन करते हुए एक से बढ़कर एक प्रतिमाएं तैयार की गई हैं। गणेश प्रतिमाओं को अंतिम रूप दिया जा रहा है। हालांकि अबकी बार महंगाई ने मूर्तिकारों को परेशान करके रख दिया है। 
गणेश महोत्सव में स्थापना के लिए तैयार प्रतिमाएं।
गणेश महोत्सव 2 सितंबर सोमवार से शुरू होगा। महंगाई की मार से मूर्ति स्थापना भी अछूती नहीं रही। पिछले वर्ष के मुकाबले अबकी प्रति मूर्ति पर तकरीबन दो हजार रुपए ज्यादा खर्च करना पड़ेंगे। कालू कुआं में मूर्ति निर्माण कर रहे कोलकाता के कारीगर मधुपाल ने बताया कि गणेश और दुर्गा प्रतिमाएं बनाईं जा रही हैं। उनके साथ एक दर्जन सहयोगी भी हैं। पिछले वर्ष उन्होंने यहां गणेश चतुर्थी के लिए 20 मूर्तियां बनाईं थीं लेकिन अबकी बार एक दर्जन प्रतिमाएं बनाएंगे। प्रतिमाओं को संवारने और रंग-रोगन से अंतिम रूप देने में जुटे मधुपाल ने बताया कि इस वर्ष प्रतिमा निर्माण सामग्री महंगी और अत्याधिक बारिश होने से प्रतिमाओं की लागत बढ़ गई है। नतीजे में हरेक प्रतिमा पर करीब 2000 रुपए का अतिरिक्त खर्च आ रहा है। अब तो मूर्ति बनाने में इस्तेमाल होने वाली मिट्टी भी महंगी है। पिछले साल एक ट्रैक्टर मिट्टी 18 हजार रुपए में मिल रही थी, अबकी 20 से 22  हजार रुपए में है। वहीं बांस का गट्ठर जहां 250 से 300 रुपए में मिलता था, वह अब महंगा होकर 300 से 400 रुपए तक मिलने लगा है। ऐसे ही श्रृंगार सामग्री में भी लगभग खासा इजाफा हुआ है। श्रद्धालुओं को प्रतिमाएं हासिल करने के लिए कम से कम 7000 और अधिकतम 18 हजार रुपए खर्च करने होंगे। मुधपाल के मुताबिक प्रतिमाओं में इस्तेमाल की जाने वाली मिट्टी कोलकाता से लाते हैं।

No comments