Recent comments

Latest News

आदिकाल से समाज में शिक्षा का रहा महत्व: विधायक

शिक्षक उन्मुखीकरण कार्यशाला में डीएम ने दी सीख, जनपद में 200 माॅडल स्कूल, 60 स्मार्ट क्लास की हो रही व्यवस्था
स्कूल चलो अभियान के तहत इस वर्ष 1 लाख 40 हजार छात्र हुए नामांकित

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। सदर विधायक चंद्रिका प्रसाद उपाध्याय व जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय की मौजूदगी में छात्र अधिगम स्तर में वृद्धि को शिक्षक उन्मुखीकरण कार्यशाला का आयोजन विकलांग विश्व विद्यालय के सभागार में आयोजन किया गया।
सदर विधायक चंद्रिका प्रसाद उपाध्याय ने कहा कि खुशी की बात है जिलाधिकारी की प्रेरणा से प्राथमिक, पूर्व माध्यमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक कार्यशाला में उपस्थित हुए। समाज में आदिकाल से शिक्षा का महत्व रहा है। प्राचीन व्यवस्था में ऋषि-मुनि वनों में शिक्षा देते थे। पहले पेन कॉपी नहीं थे। अब समय बदला और सरकार ने काफी सुविधाएं उपलब्ध कराई। विद्यालयों का कायाकल्प हुआ। कई विद्यालयों में शिक्षकों ने अपने वेतन से उपकरण खरीदे हैं। कहा कि जो एक शिक्षक कार्य कर सकता है वह जिला प्रशासन व समाज नहीं कर सकता। उनके समय में सुविधाएं नहीं थी, लेकिन शिक्षा का स्तर अच्छा था। गुरु में बहुत बड़ी शक्ति है। यह वह जिला है जहां भगवान श्रीराम ने साढे 11 वर्ष बिताए हैं। उनके अनुशरण पर चलकर शिक्षा के स्तर को ऊपर उठाएं। जब मन का भाव बदल जाएगा तो कोई ऐसा कार्य नहीं जो हो नहीं सकता। 
जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय ने कहा कि चित्रकूट की भविष्य से जुड़ी कार्यशाला है। गुरुजन की वंदना आदिकाल से चली आ रही है। उन्होंने जूनियर तक टाट पट्टी में पढ़ाई की है। गुरुजी ने शिक्षा व साहस के बारे में जो बताया उन्हीं के सिद्धांतों पर चलकर आज इस श्रेणी पर पहुंचे हैं। कहा कि मुख्यमंत्री का सपना है। प्रदेश में ऐसा कभी नहीं हुआ कि जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, जिला विद्यालय निरीक्षकों को बुलाकर शिक्षा पर कैसे सुधार किया जाए यह दिशा निर्देश दिए गए। पिछले दिनों विद्यालयों का निरीक्षण कराया गया। जिसमें काफी कमियां मिलीं। कुछ शिक्षकों का वेतन भी रोका है। कहा कि अपने बच्चों की तरह स्कूल के बच्चों से प्यार करें। चित्रकूट के शिक्षा के स्तर में सुधार होगा। भारत में नीति आयोग में पांचवी रैंक शिक्षा की आई है, लेकिन अब कुछ सूचकांकों में कमी हुई है उसे बढ़ाए। सफाई, स्वास्थ्य के प्रति सजग रहें और हैंडवाश का निर्माण कराएं। बच्चों को नैतिक शिक्षा भी देना है। उनमें नम्रता, विनम्रता का गुण होना चाहिए। जनपद में लक्ष्य के सापेक्ष 22 लाख 60 हजार से अधिक वृक्षारोपण किया गया। बच्चों में खेलकूद, योगा व अभिभावकों के साथ बैठक अवश्य करें।
मुख्य विकास अधिकारी डॉ महेंद्र कुमार ने कहा कि शासन व प्रशासन की अपेक्षाएं व मुख्यमंत्री की संचालित योजनाओं के संबंध में कार्यशाला का आयोजन किया गया है। स्कूलों में बदलाव हुआ है। इस पिछड़े जनपद में 200 से अधिक माॅडल स्कूल बनाए गए हैं जो किसी प्राइवेट स्कूल से कम नहीं है। 60 से ज्यादा स्कूलों पर स्मार्ट क्लास की व्यवस्था कराई जा रही है। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी प्रकाश सिंह ने सभी अतिथियों का स्वागत किया। कहा कि कार्यशाला में 887 प्राथमिक विद्यालय व 447 पूर्व माध्यमिक विद्यालय के स्कूलों के प्रधानाध्यापक आमंत्रित रहे। स्कूल चलो अभियान के अंतर्गत इस वर्ष एक लाख 40 हजार से अधिक छात्र नामांकित किए गए हैं। आज इस कार्यक्रम में सभी प्रधानाचार्य से शिक्षा के स्तर को कैसे ऊपर उठाएं इस संबंध में बताया गया। इसमें पिरामल संस्था का भी सहयोग रहा है। सभी शिक्षकों से कहा कि विद्यालयों में पठन-पाठन अच्छा कराएं। पिरामल संस्था के मोहम्मद नफीस व अवंतिका ने नीति आयोग के बारे में जानकारी दी। इस मौके पर पढेगा चित्रकूट तो बढे़गा चित्रकूट का नारा लगाया गया। कार्यक्रम का संचालन शिक्षक साकेत बिहारी शुक्ल ने किया। खंड शिक्षा अधिकारी पहाड़ी ओम प्रकाश मिश्रा ने सभी के प्रति आभार जताया। इस अवसर पर सांसद पुत्र भाजपा नेता सुनील सिंह पटेल, राजकुमार त्रिपाठी, विधायक प्रतिनिधि सुनील गर्ग, उप जिलाधिकारी कर्वी इंदु प्रकाश  सिंह, जिला पंचायत राज अधिकारी राजबहादुर, जिला प्रोबेशन अधिकारी रामबाबू विश्वकर्मा आदि मौजूद रहे।

No comments