Recent comments

Latest News

कर्जदार किसान फांसी पर झूला, मौत

बिसंडा थाना क्षेत्र के सिंहपुर गांव में हुई घटना 
गांव के लोगों का 50 हजार रुपया बताया गया कर्ज 

बांदा, कृपाशंकर दुबे । कर्ज के दलदल में फंसे किसानों के आत्महत्या करने का सिलसिला जारी है। बटाई लिए गए खेतों में बोई गई तिल की फसल की रखवाली करने खेतों पर गए किसान ने नीलम के पेड़ में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। ग्रामीणों ने देखा तो परिजनों को जानकारी दी। पुलिस ने पंचनामा भरने के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। मृतक पर लगभग 50 हजार रुपये का साहूकारों का कर्ज था। इसके चलते किसान परेशान रहता है। 
बिसंडा थाना क्षेत्र के सिंहपुर माफी गांव निवासी रामभवन उर्फ फुलुवा (60) पुत्र शिवरतन गुरुवार को सुबह अन्ना मवेशियों से खेत में बोई गई तिल की फसल बचाने के लिए रखवाली करने गया था। कुछ देर बाद ग्रामीणों ने उसका शव खेत में लगे नीम के पेड़ पर रस्सी के सहारे फांसी के फंदे पर लटकता देखा। ग्रामीणों ने घटना की सूचना घर वालों को दी। खबर मिलते ही परिजन घटनास्थल आ गए। परिजनों ने ग्रामीणों की मदद से फंदा काटकर शव को नीचे उतारा। मौके पर पहुंची पुलिस ने पंचनामा भरने के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। मृतक के पुत्र शिवनरेश ने बताया कि पिता के नाम पांच बीघा जमीन परती पड़ी है। 12 बीघा बटाई पर लिए गए खेत में तिल की फसल बोई थी। अन्ना मवेशियों से फसल बचाने के लिए पिता खेत की रखवाली करने आए थे। पिता ने खेती-किसानी के लिए गांव के कुछ साहूकारों से 50 हजार रुपये का कर्ज लिया था। पुत्र आत्महत्या की स्पष्ट वजह नहीं बता सका। परिवारीजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। 

No comments