Recent comments

Latest News

गन्दगी से पटी नालियो की सफाई करने को मजबूर ग्रामीण

मामला है भीतरगांव ब्लॉक के कस्बा साढ़ का
मुख्य मार्गो के किनारे जमा है गोबर के ढेर।
गंदगी से फैल रही संक्रामक बीमारिया।
शिकायत कर हार चुके है ग्रामीण।

भीतरगांव, गोविन्द शुक्ल  । यहाँ बात हो रही है नवसृजित तहसील में शामिल किए गए भीतरगांव ब्लॉक क्षेत्र के तमाम ग्राम पंचायतों की जहाँ वर्षो से सफाई कर्मी गांव गए ही नही। गांव की नालियां गंदगी से बजबजा रही।
जिससे संक्रामक बीमारियों के फैलने का खतरा मंडराने लगा है । ब्लॉक क्षेत्र के साढ़, कोरथा, देवसड, बंजारी, अमौर, सचौली, कुड़नी,  देवपुरा, बरुई, गणेशीपुर, बहादुरगढ़ आदि ऐसे तमाम गांव है, जहाँ सालो से ग्रामीणों ने सफाई कर्मी को नही देखा।
शासन सफाई को लेकर चाहे जितने दावे कर ले लेकिन गांवों की हकीकत कुछ और है।
कस्बा साढ़ के ग्रामीणों ने अपना दर्द बयां करते हुए बताया कि करीब दो साल से कोई भी सफाई कर्मी नही आया जिससे सारी गंदगी सड़को से बहती है नालियां चोक होने से पानी घरो में भर जाता है।गांव के अंदर बनी सीसी रोड के किनारे की नालिया बिल्कुल खत्म हो चुकी है जिससे लोगो का घर से निकलना भी दूभर है।आज हुई तेज बारिश ने लोगो को खुद नाली साफ करने के लिए मजबूर कर दिया ग्रामीण सुरेंद्र कुशवाहा, पतोन, मिथुन, विनोद शुक्ला, राधेलाल कुशवाहा आदि लोग खुद ही फावड़ा आदि लेकर नाली बनाकर समस्या का हल निकालने लगे। इस विषय पर पंचायत सचिव ने बताया कि करीब 7 माह पूर्व नियुक्त सफाईकर्मी योगेश की दुर्घटना में मृत्यु होने से अभी पद रिक्त है शीघ्र ही नियुक्ति करा कर सफाई व्यवस्था को दुरुस्त किया जाएगा।

No comments