Recent comments

Latest News

केन्द्रीय राज्यमंत्री पर बिरादरी की ही महिला ने जड़े गम्भीर आरोप

आरोप सिद्ध होने पर राजनीति से ले लूंगी सन्यास - साध्वी 

फतेहपुर, शमशाद खान । जिले की सांसद एवं मोदी मंत्रिमण्डल में राज्यमंत्री साध्वी निरंजन ज्योति पर उन्हीं की बिरादरी की एक महिला ने पांच वर्ष पूर्व अर्थात 2014 के लोकसभा चुनाव में पति से 15 लाख रूपये की वापसी न करने की नियत से उत्पीड़न कराये जाने का गम्भीर आरोप लगाया है। महिला ने कहा कि उसके पति सेवानिवृत्त फौजी होने के साथ ही राष्ट्रपति द्वारा पुरस्कृत किये जा चुके हैं। इसके बावजूद रूपयों की मांग से नाराज साध्वी ने अपने पद का प्रभाव दिखाते हुए उनके 55 वर्षीय अधेड़ पति के खिलाफ बलात्कार जैसा घिनौना मुकदमा भी पंजीकृत करा रखा है। महिला का कहना है कि केन्द्र व प्रदेश सरकार से लगातार न्याय की गुहार लगाने के बावजूद मंत्री के प्रभाव में उसे सिर्फ ठोंकरे ही मिल रही हैं। 
पत्रकारों को जानकारी देती पीड़ित महिला। 
चांदपुर थाना क्षेत्र के रूरा गांव निवासी श्रीमती रमा देवी ने बताया कि उनके पति राम किशन निषाद पूर्व सैनिक हैं और राष्ट्रपति द्वारा पुरस्कृत भी किये जा चुके हैं। इतना ही नहीं भाजपा सैनिक प्रकोष्ठ अमौली ब्लाक के अध्यक्ष भी हैं। वर्ष 2014 में लोकसभा चुनाव लड़ते समय उनके पति से चैदह लाख रूपये साध्वी जी ने लिये थे। इसके अलावा शिकायतकत्री से चुनावी सभा में एक लाख रूपये लिये थे। कुल पन्द्रह लाख रूपयों की वापसी की मांग करने पर साध्वी ने अपने पद के प्रभाव में उसके पति के विरूद्ध चांदपुर थाने पर बलात्कार का मुकदमा दर्ज करवा दिया। कोटेदार सतेन्द्र द्वारा ग्रामीणों की राशन सामग्री में धांधली बरते जाने पर उसके पति के प्रयास से राशन की दुकान निरस्त की गयी थी जिससे राशन कोटेदार खफा हो गया था। उसकी ओर से भी एक मुकदमा फर्जी पंजीकृत कराया गया है। इन मुकदमों को पंजीकृत कराने में केन्द्रीय राज्यमंत्री ने थाने पर धरने भी दिये हैं। पूर्व सैनिक की पत्नी ने बताया कि केन्द्रीय राज्यमंत्री द्वारा रूपयों की वापसी न करने के साथ ही लगातार उसके पति व परिवार का उत्पीड़न सरकारी अमले से करवाया जा रहा है। उत्पीड़न व रूपयों की वापसी की बाबत शपथ पत्रों सहित केन्द्रीय राज्यमंत्री की शिकायत प्रधानमंत्री, मानवाधिकार आयोग, मुख्यमंत्री, रक्षामंत्री, राज्यपाल, भाजपा के राष्ट्रीय व प्रदेश अध्यक्ष, डीजीपी, डीएम, एसपी से भी की जा चुकी है। लेकिन अब तक उसे न्याय नहीं मिल पा रहा है। आरोप लगाने वाली महिला के साथ भाजपा सैनिक प्रकोष्ठ के अध्यक्ष सूबेदार आरएस अवस्थी व पूर्व सैनिक सेवा परिषद के महामंत्री भी रहे। उधर रमा देवी के आरोपों की बाबत स्थानीय लोक निर्माण विभाग के निरीक्षण भवन में पत्रकारों से केन्द्रीय राज्यमंत्री ने कहा कि न तो वह रमा देवी को जानती हैं और न ही वह उसकी रिश्तेदार है। उन्होने पन्द्रह लाख रूपया लिये जाने के आरोपों को भी सिरे से खारिज कर दिया। केन्द्रीय राज्यमंत्री ने कहा कि रमा देवी द्वारा लगाये जा रहे आरोप अगर सिद्ध हो गये तो वह राजनीति से सन्यास ले लेंगी। उन्होने यह भी कहा कि शासन व प्रशासन से उनकी मांग है कि फर्जी आरोप लगाकर सरकार व पार्टी को बदनाम करने वाली महिला के खिलाफ सख्त विधिक कार्रवाई अमल में लायी जाये। 

No comments