Recent comments

Latest News

रिसर्च मैथोलोजी पर विवेक कॉलेज में वर्कशाप का आयोजन

20 से अधिक महाविद्यालयों के शिक्षकों ने किया प्रतिभाग

बिजनौर, संजय सक्सेना । विवेक कॉलेज बिजनौर के मैनेजमेंट विभाग में रिसर्च मैथोलोजी विषय पर एक दिवसीय वर्कशॉप का आयोजन किया गया। वर्कशॉप में जीएलएम बजाज से आये डा. आनन्द राय एवं डा. हर्ष प्रताप सिंह ने रिसर्च पेपर लिखने विस्तृत व्याख्यान दिया।  रिसर्च वर्कशाप में वर्धमान कॉलेज, राजकीय पॉलीटैक्निक, आरएसएम धामपुर, हाशमी कॉलेज ऑफ लॉ अमरोहा, एचई  सोसायटी किरतपुर आदि से लगभग 110 शिक्षकों ने प्रतिभाग किया। 
वर्कशॉप के टैक्नीकल सैशन मे डा. आनंद राय ने बताया कि हम किस प्रकार से अनेकों रिसर्च टूल का प्रयोग करके रिसर्च को आसान बना सकते हैं। उन्होने सिग्मा स्टेट, एसपीएसएस मैंडले सॉफटवेयर का इस्तेमाल शिक्षकों को बताया। उन्होंने विभिन्न प्रकार के रिसर्च फ्रेमवर्क को समझाया। डेसक्रिप्टिन रिसर्च, अप्लाइड रिसर्च, क्वान्टिटेटिव रिसर्च, कन्सैप्च्युल रिसर्च आदि के बारे में भी बताया। 
डा. हर्षप्रताप द्वारा प्राइमरी एवं सेके्रड्री डाटा संग्रहण की विधियों पर प्रकाश डाला गया। उन्होंने रिसर्च डिजाइन, वैरिएबल्स को प्रयोग करने के तरीके को विस्तार से समझाया। उन्होंने ये भी बताया कि उपलब्ध ऑकड़ों पर किसी प्रकार से भिन्न-भिन्न प्रकार के टेस्ट जैसे कि टी- टेस्ट, काई स्कवेयर टेस्ट आदि लगाये जा सकते हैं। डॉ. राय ने रिसर्च पेपर को तैयार करने कि विधि के बारे में विस्तार से बताया।
डा. ओ.पी गुप्ता ने इस अवसर पर कहा कि रिसर्च की तरफ  हर शिक्षक का जोर होना चाहिये, इससे शिक्षक अपनी कक्षा में नये इनोवेशन के साथ बच्चों को पढ़ाता है। 
कार्यक्रम का शुभारम्भ जीएलएम बजाज से आये प्रोफेसर डा. आनंद राय, डा. हर्षप्रताप, महाविद्यालय के प्रशासनिक निदेशक डा. ओपी गुप्ता, कॉलेज कोर्डिनेटर डा. हितेश शर्मा, डा. राजीव  चौधरी एवं प्राचार्य डा. बिजेन्द्र यादव द्वारा संयुक्त रुप से किया गया। 
अन्त में मैनेजमेंट विभाग के प्राचार्य डा. बिजेन्द्र ने सभी का आभार प्रकट किया और बताया कि अगले चरण में डाटा एनालाइसेस पर रिसर्च का वर्कशाप का आयोजन किया जाना है।
कार्यक्रम का संचालन डा. रमीज तथा फिजा द्वारा किया गया कार्यक्रम को सफल बनाने में सर्वेश, शीतल, अर्पित जैन, प्रियंका राजन, मोहित त्यागी, हरजीत, उमोंग, आकांक्षा, अफशा, रिमझिम दानिश, विश्वजीत आदि का विशेष सहयोग रहा।

No comments