Recent comments

Latest News

यमुना के कहर से दर्जनों गाँव टापू में हुए तब्दील, प्रशासनिक इंतजामात नाकाफी

कालपी (जालौन)। यमुना नदी की भीषण बाढ़ से नगर सहित महेवा व कदौरा विकास खण्ड के सैकड़ो गांव चपेट मे है जिसमे कई गांव टापों बन चुके है जंहा लोगो को शौचक्रिया, खाने पीने राशन, सब्जी आदि को तबाह है इतना ही नही बीमार लोग भी इलाज के आभाव से जीवन और मौत के बीच संघर्ष कर रहे है लेकिन स्थानीय प्रशासन हाथ पर हाथ रख कर जनहानि, जानवर हानि, आर्थिक हानि होने का इंतजार कर रहा है।
        गौरतलब हो कि यमुना नदी की बाढ़ कई दिनो से निरंतर बढ़ रही है जिससे यमुना पट्टी के किसानों की फसल जलमग्न होकर पूरी तरह नष्ट हो गई है इतना ही नही कई गांव वर्तमान समय मे टापू बने हुये है वहा के निवासियों को शौचक्रिया, भोजन, इलाज आदि के लिये तबाह है तथा वंहा के लोग अपनी व अपने परिवार की सुरक्षा करने हेतु चिंतित है वही प्रशासन मूक दर्शक बना हुआ है। जानकारी के अनुसार कालपी नगर सीमा से मात्र एक किलो मीटर की दूरी मे बसा शेखपुर बुल्दा गांव को यमुना नदी की बाढ़ ने चारों तरफ से घेर लिया है जंहा महिलाओं समेत पुरुष व नन्ने मुन्ने बच्चों को शौचक्रिया हेतु कई किलो मीटर दूर जाना पड़ता है लेकिन प्रशासन की तरफ से कोई व्यवस्था न किये जाने की बात ग्रामीणों ने कही। इसी प्रकार हीरापुर, गुढ़ा खास, शेखपुर गुढ़ा, देवकली, धरमपुर, मैनूपुर, पड़री, नरहान, मगरौल, कुटरा आदि अनेकों गांव बाढ़ की चपेट मे है।

No comments