Recent comments

Latest News

स्वामी अंश बने संत सुरक्षा मिशन के युवा प्रदेश अध्यक्ष


बिजनौर, संजय सक्सेना। संत सुरक्षा मिशन की राष्ट्रीय कार्यकारिणी ने राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी राजेन्द देव जी महाराज के मार्गदर्शन व वरिष्ठ राष्ट्रीय संगठन मंत्री डा. रेखा गुर्जर की अनुशंसा पर स्वामी अंश चैतन्य महाराज को उत्तर प्रदेश अध्यक्ष (युवा शाखा) के पद पर नियुक्त किया है। राष्ट्रीय महासचिव आचार्य संतोष जी महाराज ने इस संबंध में जानकारी दी। 
स्वामी अंश चैतन्य महाराज से राष्ट्रीय कार्यकारिणी ने आशा की है कि 11 सूत्रीय कार्यक्रम पर कार्य को आगे बढ़ाएंगे व जल्द ही उत्तर प्रदेश में राज्य स्तर और जिला स्तर पर अपनी कार्यकारिणी गठित करेंगे। स्वामी जी से संत सुरक्षा मिशन के संविधान में विश्वास रखने की अभिलाषा रखते हुए सुरक्षा मिशन परिवार में स्वामी जी का स्वागत किया गया है। 
महात्मा विदुर के मंदिर को लाना है विश्व पर्यटन मानचित्र स्थल पर 
विदित हो कि हिंदू युवा सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी अंश चैतन्य महाराज कई वर्ष से समाजसेवी कार्य में संलग्र हैं। बिजनौर से विदुर कुटी मार्ग स्थित गंज के समीप उनके आश्रम में धार्मिक गतिविधियों का निर्वहन प्राय: सुनिश्चित है। वह सामाजिक व धार्मिक सरोकारों के मामलों को प्रमुखता से उठाने में अग्रणी रहते हैं। वर्तमान में उन्होंने महाभारत काल से जुड़े विदुर कुटी को विश्व पर्यटन मानचित्र स्थल पर लाने का बीड़ा उठाया हुआ है। इस संबंध में प्रदेश व केंद्र सरकार को ज्ञापन भेजकर अवगत भी कराया है। प्रधानमंत्री को भेजे पत्र में उन्होंने कहा कि विश्व की ऐतिहासिक महात्मा विदुर की तपोभूमि आज भी विकास के लिए तड़प रही है। प्रबंध समितियों के गोलमाल करने के कारण आज भी जीर्णशीर्ण अवस्था में है। यहां बाहर से आए दर्शनार्थियों के लिए भोजन व ठहरने की व्यवस्था तक नहीं
है। स्नानघर और शौचालय की व्यवस्था भी नहीं है। कभी विदुर कुटी के मंदिर की पैडिय़ों से छू कर अवरिल बहने वाली मां गंगा आज यहां से दो किलोमीटर दूर जा चुकी है। यहां पर गंगा स्नान पर्व पर विशाल मेले का आयोजन प्रतिवर्ष होता है, जिसमें जनता आस्था के महापर्व में स्नान करने आती है। विश्व का ऐतिहासिक तीर्थ स्थल होने के नाते केंद्र व राज्य सरकार के द्वारा करोड़ों रुपए हर वर्ष अनुदान आता है। आम जनता द्वारा भी अनुदान दिया जाता है, इसके बावजूद भी यहां की व्यवस्था विकास कार्य जीर्णशीर्ण अवस्था में पड़े हुए हैं। उन्होंने मां गंगा को एक नहर का रूप देकर विदुर कुटी के बराबर से निकालने की राय दी है। इससे पर्यटन को बढ़ावा मिल सकेगा और महात्मा विदुर के आश्रम, गौशाला, विद्यालय, मंदिर का विकास उच्च स्तर पर हो सकेगा। 

No comments