Recent comments

Latest News

भुगतनी पड़े पुरानी गलतियों की सजा कमलेश तिवारी हत्याकांड में फंसे मौलाना अनवारुल हक


बिजनौर । सपा सरकार में खुलकर खेले मौलाना अनवारुल हक कमलेश तिवारी हत्याकाण्ड में फंसते दिख रहे हैं। सपा सरकार में तो उनके विरुद्ध कोई कार्रवाई नहीं हुई, लेकिन अब शायद उन्हें अपनी पुरानी गलतियों की सजा भुगतना पड़े। सपा सरकार में मौलाना अनवारूल हक की देखादेखी उनकी उनकी ही राह पर चले भनेड़ा के मुफ्ती नईम भी फंसते दिखाई दे रहे हैं। हालांकि जांच एजेंसियों का ज्यादा फोकस मौलाना अनवारुल हक पर ही है, लेकिन अगर मौलाना के विरुद्ध कोई कार्रवाई हुई तो बचेंगे मुफ्ती नईम भी नहीं। 
मौलाना अनवारुल हक और मुफ़्ती नईम को हिरासत में लिये जाने के बाद जांच का दायरा और बढ़ गया। जैसे-जेसे जांच आगे बढ़ी मौलाना अनवारुल हक व मुफ्ती नईक कासमी पर शिकंजा सकता गया। कमलेश तिवारी की हत्या की साजिश गुजरात में रचे जाने और वहां के तीन लोगों के पकड़े जाने से मौलाना अनवारुल हक की मुश्किलें और बढ़ गईं। मौलाना अनवार के भाई गुजरात के सूरत में रहते हैं। वहां मौलाना अक्सर जाते रहते थे। जांच एजेंसियां अब इस बात का पता लगाने में जुटी हैं कि कब-कब मौलाना अनवारुल हक सूरज गये और वहां किस-किस से मिले। सूरत में रहने वाले मौलाना के भाई वहां किन-किन लोगों के टच में रहते हैं। जांच एजेंसिायां मौलाना अनवारुल हक की कुण्डली पूरी तरह खंगाल रही है, हर पहलू को बारीकी से देखा जा रहा है। चाहशीरी जामा मस्जिद बिजनौर का इमाम रहते हुए सपा सरकार में उन्होंने क्या-क्या किया। उन दिनों वे किन-किन लोगों से मिलते थे। कौन-कौन लोग उनके खास थे। वे सूरत कितनी बार गये। कितने-कितने दिन वहां रुके। बिजनौर में आतंकियों के रहने का खुलासा होने के दिनों में मौलाना अनवारुल हक की क्या गतिविधयां थीं। इन सब बातों पर जांच एजेंसियों का फोकस है।

No comments